Advertisement

12 वीं के बाद साइकोलॉजी कोर्स आपके लिए अच्छा ऑप्शन है-

0
891
Psychology course

12 वीं के बाद ज्यादा टेंशन हमे इसी बात की होती हैं कि हमारे लिए सबसे अच्छा कौन सा कोर्स है| इसके लिए सबसे अच्छा ऑप्शन है साइकोलॉजी कोर्स| साइकोलॉजी सबजेक्‍ट में करियर बनाने की संभावनाएं बढ़ती जा रही हैं|

साइकोलॉजी ट्रीटमेंट, बिना दवाइयों का सेवन किए और सोच में परिवर्तन लाने पर आधारित होता है| अगर आप शुरूआत से ही इस फील्‍ड में दिलचस्‍पी रखते हैं तो ये है करियर विकल्‍प|

साइकोलॉजी ग्रीक भाषा के दो शब्दों ‘साइको’ अर्थात् आत्मा तथा लॉजी अर्थात अध्ययन से मिल कर बना है, जिसे आधुनिक परिवेश में मनोविज्ञान के नाम से भी जाना जाता है|

जो छात्र किसी कारणवश मेडिकल में प्रवेश नहीं ले पाते, उनके लिये मनोविज्ञान संभावनाओं की एक नई किरण है| साइकोलॉजी एक शैक्षणिक अनुशासन है जिसमें मानसिक प्रक्रियाओं और व्यवहार का वैज्ञानिक अध्ययन शामिल है|

आत्मा एवं मन का विज्ञान, मनोविज्ञान एक बेहद रोचक, व्यावहारिक और गूढ़ विषय है, जिसके द्वारा आप हर उम्र के व्यक्ति के मन की बात सहजता से जान सकते हैं|

आज की तनाव भरी, तेज रफ्तार एवं प्रतिस्पर्धायुक्त जिन्दगी में इन्सान जहां हंसना-खेलना तक भूल गया है, और डिप्रेशन एवं आत्महत्या जैसे कदम उठाने में भी नहीं हिचकिचाता, ऐसे में मनोविज्ञान उसके लिये किसी वरदान से कम नहीं है|

आप साइकोलॉजी में बीए/बीए ऑनर्स इन साइकोलॉजी (3 वर्ष), एमए/एमएससी इन साइकोलॉजी (2 वर्ष), पीजी डिप्लोमा इन साइकोलॉजी (2 वर्ष), साइकोलॉजी डिप्लोमा कोर्स,जैसे क्लिनिकल, स्ट्रैस रिलीफ, टाइम मैनेजमेंट इत्यादि| इनमें से अधिकतर में प्रवेश पाने के लिये प्रवेश परीक्षा एवं साक्षात्कार द्वारा छात्रों का चयन किया जाता है|

इसे भी पढ़े : 12 वीं के बाद जर्नलिज्म कोर्स में अपना करियर बनाये

आईये जानते है किस तरह प्रवेश किया जाएं

कैसे मिलेगी एंट्री – बीए या बीए ऑनर्स इन साइकोलॉजी में एडमिशन के लिए 50 प्रतिशत अंकों के साथ 12वीं पास होना अनिवार्य है| इसके अलावा आप पीजी या डिप्लोमा भी कर सकते हैं, जिसके लिए 55 प्रतिशत अंकों के साथ साइकोलॉजी विषय में ग्रेजुएट डिग्री जरूरी है| एमफिल या पीएचडी करने के लिए 55 प्रतिशत अंकों के साथ साइकोलॉजी में पोस्‍ट ग्रेजुएट होना जरूरी है|

करियर स्कोप – मनोवैज्ञानिक के लिए नौकरी के अवसर बहुत हैं। वे निजी और सरकारी क्षेत्रों में आसानी से नौकरी पा सकते हैं| मनोवैज्ञानिक ज्यादातर विभिन्न विश्वविद्यालयों, कॉलेजों और स्कूलों, अस्पतालों, क्लीनिकों, सरकारी एजेंसियों आदि में नौकरियों के लिए उठाए जाते हैं। यूरोप, अमेरिका, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसे देश नौकरी के अवसरों के लिए लोकप्रिय स्थान हैं|

प्रमुख संस्‍थान:
मनोविज्ञान विभाग – दिल्ली विश्वविद्यालय
जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली
यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, बर्केले
एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ साइकोलॉजी ऐंड अलॉइड साइंसेस, नोएडा
बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, वाराणसी
कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय – लॉस एंजिल्स
मिशिगन विश्वविद्यालय – एन आर्बर
येल विश्वविद्यालय
अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ
मेसाचुसेट्स प्रौद्योगिक संस्थान
प्रिंसटन विश्वविद्यालय

इसमें जॉब प्रोफाइल भी बहुत सारी है जैसे -मनोचिकित्सक,परामर्शदाता,अध्यापक,सलाहकार नैदानिक, ​​मनोचिकित्सक,क्लिनिकल सोशल वर्कर, मनोचिकित्सक नर्स,कला चिकित्सक और व्यवसायी|

साइकोलॉजी में करियर बनाने वाले युवाओं को तैयारी करते समय कुछ बातो का खास ध्यान रखना पड़ता है जैसे – आप में समाज-सेवा का जज्बा होना बेहद जरूरी है| उन्हें हर परिस्थिति का सामना सहजता एवं धैर्य से करना चाहिये|

अगर आप एक कुशल डॉक्टर या काउंसलर बनना चाहते हैं तो पढ़ाई रेगुलर करना ही ठीक रहेगा| अगर आप किसी कम्पनी में अपनी सेवाएं प्रदान करना चाहते हैं तो बेशक यह कोर्स पत्राचार द्वारा भी किया जा सकता है|

Image Source :- Google