Advertisement

Delhi-NCR AQI: दिल्ली में वायु गुणवत्ता में आंशिक सुधार, लेकिन अब भी ‘बहुत खराब’ श्रेणी में

0
17
Delhi-NCR AQI: दिल्ली में वायु गुणवत्ता में आंशिक सुधार, लेकिन अब भी ‘बहुत खराब’ श्रेणी में

Delhi-NCR AQI: राष्ट्रीय राजधानी में शनिवार को वायु गुणवत्ता आंशिक रूप से सुधरी है। लेकिन अब भी वह ‘‘बहुत खराब’’ की श्रेणी में ही है।

वायु गुणवत्ता पर नजर रखने वाली एजेंसियों को उम्मीद है कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण मौसम संबंधी परिस्थितियों में रविवार से सुधार हो सकता है।

दिल्ली में नवंबर में 10 दिन वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ रही है। पिछले साल नवंबर में दिल्ली में वायु गुणवत्ता तीन दिन गंभीर श्रेणी में रही थी, जबकि नवंबर 2021 में यह स्थिति 12 दिन रही थी।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने जब से वायु गुणवत्ता सूचकांक पर नजर रखनी शुरू की है, तब से नवंबर में 2021 में सबसे अधिक दिन वायु गुणवत्ता ‘‘गंभीर’’ श्रेणी में रही थी।

सीपीसीबी के आंकड़ों के अनुसार, नवंबर 2020 में वायु गुणवत्ता 9 दिन, 2019 में 7 दिन, 2018 में 5 दिन, 2017 में 7 दिन, 2016 में 10 दिन और 2015 में 6 दिन ‘‘गंभीर’’ श्रेणी में रही थी।

ये भी पढ़ें – भारत के पास आने वाला है ‘सबसे खतरनाक’ Drone MQ9B, फीचर जान कांप उठेंगे चीन-पाकिस्तान!

Delhi-NCR AQI अब भी ‘गंभीर’ श्रेणी में

न्यूनतम तापमान में गिरावट और रात में हवा की धीमी गति के कारण प्रदूषकों के एकत्र होने से दिल्ली में वायु गुणवत्ता शुक्रवार को फिर से ‘गंभीर’ श्रेणी में दर्ज की गयी थी।

शहर में दोपहर 4 बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक 389 था जबकि सुबह आठ8 बजे यह 421 दर्ज किया गया था।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के एक वैज्ञानिक ने रविवार से पश्चिमोत्तर भारत को प्रभावित कर सकने वाले एक पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के कारण मौसम संबंधी स्थितियों में संभावित सुधार के परिणामस्वरूप प्रदूषण से थोड़ी राहत मिलने का अनुमान जताया है।

दिल्ली के एक्यूआई में गत रविवार को मामूली सुधार के बाद से लगातार वृद्धि हो रही है।

दिल्ली में 24 घंटे का औसत एक्यूआई प्रतिदिन शाम चार बजे दर्ज किया जाता है, जो शुक्रवार को 415, बृहस्पतिवार को 390, बुधवार को 394, मंगलवार को 365, सोमवार को 348 और रविवार (19 नवंबर) को 301 रहा था।

ये भी पढ़ें – भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टी-20 सीरीज का दूसरा मुकाबला आज

Delhi-NCR AQI के स्तर में हुई वृद्धि

केंद्र ने हवा की अनुकूल गति और दिशा के कारण प्रदूषण के स्तर में गिरावट के बाद पिछले शनिवार को दिल्ली में कुछ परियोजनाओं से संबंधित निर्माण कार्य और प्रदूषण फैलाने वाले ट्रकों के प्रवेश पर लगे प्रतिबंध सहित कड़े प्रतिबंध हटा दिए थे, जिसके बाद एक्यूआई के स्तर में वृद्धि हुई है।

दिल्ली सरकार और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), कानपुर की एक संयुक्त परियोजना के आंकड़ों के मुताबिक शुक्रवार को राजधानी के वायु प्रदूषण में जैवईंधन जलाने का योगदान 51 प्रतिशत रहा।

आंकड़ों के अनुसार, राजधानी के वायु प्रदूषण में वाहनों से होने वाले उत्सर्जन का योगदान 31 प्रतिशत रहा।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने संबंधित एजेंसियों और विभागों को प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर सख्ती से अंकुश लगाने और जैवईंधन जलाने की बढ़ती घटनाओं को रोकने का निर्देश दिया है।

ये भी पढ़ें – इन लोगों की UPI ID 31 दिसंबर से हो जाएगी बंद, जारी रखने के लिए करें ये काम