Advertisement

दो साल में बढ़ी दिल्ली की प्रति व्यक्ति, 4 लाख के पार पहुंची

0
36
दो साल में बढ़ी दिल्ली की प्रति व्यक्ति, 4 लाख के पार पहुंची

दिल्ली की वित्त मंत्री आतिशी ने सदन में आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट पेश की. इस दौरान उन्होंने कहा, “ये आर्थिक सर्वे दिखा रहा है कि पिछले एक साल में राजधानी के लोगों की प्रति व्यक्ति आय बढ़ी है. दिल्ली सरकार का राजस्व बढ़ा है. लगातार हर साल की तरह सरकार का बजट मुनाफे में रहा है.

इसे भी पढ़ें – मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना : 780 बुजुर्गों को लेकर 92वीं ट्रेन दिल्ली से द्वारकाधीश के लिए रवाना

4 मार्च को बजट होगा पेश 

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि अगले वित्त वर्ष 2024-25 के लिए राज्य का बजट चार मार्च को विधानसभा में पेश किया जाएगा. उन्होंने आर्थिक समीक्षा का ब्योरा देते हुए कहा कि वित्त वर्ष 2023-24 में मौजूदा कीमतों पर राजधानी का जीएसडीपी (सकल राज्य घरेलू उत्पाद) 11,07,746 करोड़ रुपये तक पहुंचने की संभावना है, जो 2022-23 की तुलना में 9.17% अधिक है. वित्त वर्ष 2022-23 में दिल्ली की जीएसडीपी 10.14 लाख करोड़ रुपये थी.

आतिशी ने कहा कि कोविड के बाद के दौर में दिल्ली की वास्तविक जीएसडीपी 2021-22 में 8.76% और 2022-23 में 7.85% की दर से बढ़ी, जो देश के बाकी हिस्सों के मुकाबले तेज है. उन्होंने कहा, “दिल्ली की जनसंख्या भारत की जनसंख्या का 1.5% है, जबकि इसकी जीएसडीपी का भारत की जीडीपी में लगभग 3.9% योगदान है.”

इसे भी पढ़ें – दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को ED ने भेजा आठवां समन

4 लाख से उपर हुई प्रति व्यक्ति आय

वित्त वर्ष 2021-22 में राजधानी की प्रति व्यक्ति आय 3,76,217 रुपये थी, जो 2023-24 में बढ़कर 4,61,910 रुपये हो गई. इस तरह दो वर्षों में 22% की वृद्धि दर्ज की गई है. उन्होंने कहा कि जनवरी-दिसंबर 2023 में दिल्ली की मुद्रास्फीति दर 2.81% थी जबकि इसी अवधि में राष्ट्रीय मुद्रास्फीति दर 5.65% थी. वित्त मंत्री ने कहा कि दिल्ली मुफ्त बिजली, पानी, स्वास्थ्य, शिक्षा, महिलाओं के लिए बस यात्रा, बुजुर्गों के लिए तीर्थ यात्रा की सुविधा देती है और अभी भी यह राजस्व अधिशेष के साथ एक बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था है.