Advertisement

कर्नाटक में कांग्रेस विधायक दल की बैठक, पार्टी ने तीन पर्यवेक्षक नियुक्त किए

0
17
Congress Legislature Party Meeting

नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कर्नाटक में (Congress Legislature Party Meeting) कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) का नेता चुनने के लिए वरिष्ठ नेता सुशील कुमार शिंदे, जितेंद्र सिंह और दीपक बाबरिया को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। कांग्रेस विधायक दल की अहम बैठक आज शाम साढ़े पांच बजे होगी, जहां नेता के चयन को लेकर फैसला किया जाएगा। कांग्रेस महासचिव (संगठन) के. सी. वेणुगोपाल ने बताया कि महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यंमत्री शिंदे, कांग्रेस महासचिव सिंह और पूर्व महासचिव बाबरिया सीएलपी बैठक की निगरानी करेंगे। उन्होंने ट्वीट किया,  माननीय कांग्रेस अध्यक्ष ने सुशील कुमार शिंदे (पूर्व मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र), जितेंद्र सिंह (पार्टी महासचिव) और दीपक बाबरिया (पूर्व महासचिव) को विधायक दल के नेता के चयन के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किया है।

इसे भी पढ़ें – कर्नाटक की जीत देश को जोड़ने वाली राजनीति की जीत है: प्रियंका गांधी

Congress Legislature Party Meeting – कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को उसके एकमात्र दक्षिणी गढ़ कर्नाटक से बेदखल कर शनिवार को राज्य की सत्ता में शानदार वापसी की। पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डी. के. शिवकुमार दोनों ही मुख्यमंत्री पद की दौड़ में सबसे आगे हैं। दोनों ने विधायक दल की बैठक से पहले अपने समर्थक विधायकों के साथ बैठक की है। सिद्दरमैया (75) और शिवकुमार (60) के आवास पर समर्थकों ने बैनर लगाए हैं, जिसमें उन्हें कांग्रेस की जीत के लिए बधाई दी गयी है और उन्हें अगला मुख्यमंत्री बताया गया है।

इसे भी पढ़ें – कर्नाटक में नफरत का बाजार बंद, मोहब्बत की दुकानें खुली : राहुल

पार्टी की जीत पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कांग्रेस महासचिव (संचार) जयराम रमेश ने रविवार को ट्वीट कर आरोप लगाया कर्नाटक में समाज के सभी वर्गों से कांग्रेस के पक्ष में निर्णायक फैसले को भाजपा हजम नहीं कर पा रही है और भाजपा की नफरत फैलाने की ऑनलाइन फैक्टरी झूठ पर झूठ फैलाने के लिए दिनरात लगी हुई है। निस्संदेह यह प्रधानमंत्री की नफरत और ध्रुवीकरण की राजनीति से प्रेरित है।  राज्य में 224 सदस्यीय विधानसभा के लिए हुए चुनाव में कांग्रेस ने शानदार जीत हासिल करते हुए 135 सीट जीतीं, जबकि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा नीत जनता दल (सेक्युलर) ने क्रमश: 66 और 19 सीट जीतीं।